दूसरों की मदद करना – जीवन का उद्देश्य भाईदूज पर एक लाचार बहन को मिला मददगार भाई कन्नौद से पत्रकार रितेश हिंदू की रिपोर्ट

0
207

दूसरों की मदद करना – जीवन का उद्देश्य
भाईदूज पर एक लाचार बहन को मिला मददगार भाई

हम बात कर रहे हैं विधानसभा क्षेत्र खातेगांव के हम सब के लाड़ले, सहज सरल स्वभाव के धनी #श्रीसंतोषजी_मीणा की जो कभी भी कहीं भी हर समय सेवा, मदद के लिए तैयार रहते हैं
मानव जीवन का उद्देश्य है कि अपने मन, वचन और काया से औरों की मदद करना। हमेशा यह देखा गया है कि बहुत कम लोग हैं जो दूसरों की मदद करते हैं
अभी का मामला है खातेगांव ब्लाक के ग्राम पंचायत पिपलिया नानकर में राठोर परिवार से स्वर्गीय रमेश जी की पत्नी का वाहन दूर्घटना में पेर फेक्चर हों गया। ऐसे में उन्हें कहीं से भी किसी भी प्रकार की मदद नहीं मिली उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण वह अपना इलाज नहीं करा सकती थी, यह जानकारी आज भाई दूज के अवसर पर भैय्या संतोष जी मीणा को पता चलीं तो मीणा जी ने ग्राम के सरपंच, उपसरपंच, एवं ग्रामीणो के साथ उनके निज निवास पहुंचकर 22000 हजार रुपए की नकदी देकर आपरेशन के लिए हरदा पहुंचाया।
मीणा जी उनके सगे भाई तो नहीं लेकिन आज भाई दूज के अवसर एक बहन की मदद कर उन्होंने मानवता का परिचय दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here